0
शेरों को आज़ादी है आज़ादी के पाबंद रहें
जिसको चाहें चीरें फाड़ें खायें पियें आनंद रहें

शाहीं को आज़ादी है आज़ादी से परवाज़ करे
नन्ही मुन्नी चिडियों पर जब चाहे मश्क़े-नाज़ करे

सांपों को आज़ादी है हर बस्ते घर में बसने की
इनके सर में ज़हर भी है और आदत भी है डसने की

पानी में आज़ादी है घड़ियालों और नहंगों को
जैसे चाहें पालें पोसें अपनी तुंद उमंगों को

इंसां ने भी शोखी सीखी वहशत के इन रंगों से
शेरों, संपों, शाहीनों, घड़ियालों और नहंगों से

इंसान भी कुछ शेर हैं बाक़ी भेड़ों की आबादी है
भेड़ें सब पाबंद हैं लेकिन शेरों को आज़ादी है

शेर के आगे भेड़ें क्या हैं इक मनभाता खाजा है
बाक़ी सारी दुनिया परजा शेर अकेला राजा है

भेड़ें लातादाद हैं लेकिन सबको जान के लाले हैं
इनको यह तालीम मिली है भेड़िये ताक़त वाले हैं

मास भी खायें खाल भी नोचें हरदम लागू जानों के
भेड़ें काटें दौरे-ग़ुलामी बल पर गल्लाबानों के

भेडि़यों से गोया क़ायम अमन है इस आबादी का
भेड़ें जब तक शेर न बन लें नाम न लें आज़ादी का

इंसानों में सांप बहुत हैं क़ातिल भी ज़हरीले भी
इनसे बचना मुश्किल है, आज़ाद भी हैं फुर्तीले भी

सांप तो बनना मुश्किल है इस ख़स्लत से माज़ूर हैं हम
मंतर जानने वालों की मुहताजी पर मजबूर हैं हम

शाहीं भी हैं चिड़ियाँ भी हैं इंसानों की बस्ती में
वह नाज़ा अपनी रिफ़अत पर यह नालां अपनी पस्ती में

शाहीं को तादीब करो या चिड़ियों को शाहीन करो
यूं इस बाग़े-आलम में आज़ादी की तलक़ीन करो

बहरे-जहां में ज़ाहिर-ओ-पिनहां इंसानी घड़ियाल भी हैं
तालिबे-जानओजिस्म भी हैं शैदाए-जान-ओ-माल भी हैं

यह इंसानी हस्ती को सोने की मछली जानते हैं
मछली में भी जान है लेकिन ज़ालिम कब गर्दानते हैं

सरमाये का जि़क्र करो मज़दूरों की इनको फ़िक्र नहीं
मुख्तारी पर मरते हैं मजबूरों की इनको फ़िक्र नहीं

आज यह किसका मुंह है आये मुंह सरमायादारों के
इनके मुंह में दांत नहीं फल हैं ख़ूनी तलवारों के

खा जाने का कौन सा गुर है जो इन सबको याद नहीं
जब तक इनको आज़ादी है कोई भी आज़ाद नहीं

ज़र का बंदा अक़्ल-ओ-ख़िरद पर जितना चाहे नाज़ करे
ज़ैरे-ज़मीं धंस जाये या बालाए-फ़लक परवाज़ करे

इसकी आज़ादी की बातें सारी झूठी बातें हैं
मज़दूरों को मजबूरों को खा जाने की घातें हैं

जब तक चोरों-राहज़नों का डर दुनिया पर ग़ालिब है
पहले मुझसे बात करे जो आज़ादी का तालिब है - हफीज़ जालंधरी

shero ko aazadi hai aazadi ke paband rahe
jisko chahe chire fade khaye piye anand kare

shahi ko aazadi hai aazadi se parwaz kare
nanhi munhi chidiyo par jab chahe mashqe naaz kare

saapo ko aazadi hai har baste ghar me basne ki
inke sar me zahar bhi hai aur aadat bhi hai dasne ki

pani me aazadi hai ghadiyalo aur nahango ko
jaise chahe pale pose apni tund umango ko

insa ne bhi shokhi sikhi wahshat ke in rango se
shero, saapo, shahino, ghadiyalo aur nahango se

insan bhi kuch sher hai baki bhedo ki aabadi hai
bhede sab paband hai lekin shero ko aazadi hai

sher ke aage bhede kya hai ik manbhata khaza hai
baki sari duniya parza sher akela raja hai

bhede latadad hai lekin sabko jan ke lale hai
inko yah talim mili hai bhediye takat wale hai

maas bhi khaye khal bhi noche hardam lagu jano ke
bhede kate doure gulami bal par gallabano ke

bhediyo se goya kayam aman hai is aabadi ka
bhede jab tak sher n ban le naam n le aazadi ka

insano me saap bahut hai katil bhi zahrile bhi
inse bachna mushkil hai, aazad bhi hai furtile bhi

saap to banana mushkil hai is khaslat se majur hai ham
mantar janne walo ki muhtazi par majboor hai ham

shahi bhi hai chidiya bhi hai insano ki basti me
wah naza apni rifaat par yah nala apni pasti me

shahi ko tadib karo ya chidiyo ko shahin karo
yun is baage-aalam me aazadi ki talkeen karo

bahre-jahaa me jahir-o-pinha insani ghadiyal bhi hai
talibe jaan o jism bhi hai shaidaye - jaan o maal bhi hai

yah insani hasti ko sone ki machli jante hai
machli me bhi jaan hai lekin zalim kab gardante hai

sarmaye ka jikra karo majdooro ki inko fikr nahi
mukhtari par marte hai majbooro ki inko fikra nahi

aaj yah kiska munh hai aaye munh sarmayadaro ke
inke munh me daat nahi fal hai khuni talwaro ke

khaa jane ka koun sa gur hai jo in sabko yaad nahi
jab tak inko aazadi ai koi bhi aazad nahi

zar ka banda aql-o-khirad par jitna chahe naaz kare
zere-zameen dhas jaaye ya baalaye-falak parwaz kare

iski aazadi ki baate sari jhuthi bate hai
majdooro ko majburo ko kha jane ki ghaate hai

jab tak choro -rahjano ka dar duniya par ghalib hai
pahle mujhse baat kare jo aazadi ka talib hai - Hafeez Jalandhari

Post a Comment

 
Top