0
उसको पढ़ने को जी मचलता है,
हुस्न उसका किताब जैसा है ।

तुम चिराग़ों की बात करते हो,
हमने सूरज को बुझते देखा है ।

खाक उड़़कर जमीं पे आती है,
आदमी क्यों हवा में उड़ता है ।

खुद को दुश्मन की आँख से देखो,
आईना भी फरेब देता है ।

मस्जिदों में चिराग़़ रोशन है,
दिल में ईमां बुझा-बुझा सा है ।- आदिल लखनवी

Roman

usko padhne ko ji machlata hai
husn uska kitab jaisa hai

tum chirago ki baat karte ho
hamne suraj ko bujhte dekha hai

khak udkar zameen pe aati hai
aadmi kyo hawa me udta hai

khud ko dushman ki aankh se dekho
aaina bhi fareb deta hai

masjido me chirag roshan hai
din me imaan bujha-bujha sa hai - Adil Lakhnavi

Post a Comment

 
Top