0
तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो,
दिल दुखे जिससे अब ऐसी न कोई बात कहो,

रोज़ रोटी के लिए अपना वतन मत छोड़ो,
जिसको सींचा है लहू से वो चमन मत छोड़ो,
जाके परदेस में चाहत को तरस जाओगे,
ऐसी बेलौस मोहब्बत को तरस जाओगे,
फूल परदेस में चाहत का नहीं खिलता है,
ईद के दिन भी गले कोई नहीं मिलता है,
तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो

मैं कभी तुमसे करूंगी न कोई फरमाइश,
ऐश ओ आराम की जागेगी न दिल में ख्वाहिश,
फातिमा बीबी की बेटी हूँ भरोसा रखो,
मैं तुम्हारे लिए जीती हूँ भरोसा रखो,
लाख दुःख दर्द हों हंस हंस के गुज़र कर लूंगी,
पेट पर बाँध के पत्थर भी बसर कर लूंगी,
तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो

तुम अगर जाओगे परदेस सजा कर सपना,
और जब आओगे चमका के मुकद्दर अपना,
मेरे चेहरे की चमक ख़ाक में मिल जायेगी,
मेरी जुल्फों से ये खुशबू भी नहीं आएगी,
हीरे और मोती पहन कर भी न सज पाऊँगी,
सुर्ख जूडे में भी बेवा सी नज़र आऊँगी,
तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो

दर्दे फुरकत गम ए तन्हाई न सह पाउंगी,
मैं अकेली किसी सूरत भी न रह पाऊँगी,
मेरे दामन के लिए बाग़ में कांटे न चुनो,
तुमने जाने की अगर ठान ली दिल में तो सुनो,
अपने हाथों से मुझे ज़हर पिला कर जाना,
मेरी मिट्टी को भी मिट्टी में मिलाकर जाना,
तुम मुझे छोड़ के मत जाओ मेरे पास रहो - शबीना अदीब

Roman

tum mujhe chhod ke mat jaao mere paas raho
dil dukhe jisse ab aisi n koi baat kaho

roj roti ke liye apna watan mat chhodo
jisko sincha hai lahu se wp chaman mat chhodo
jake pardesh me chahat ko taras jaoge
aisi belos mohbbat ko taras jaoge
phool pardesh me chahat ka nahi khilta hai
eid ke din bhi gale koi nahi milta hai
tum mujhe chhod ke mat jao mere paas raho

mai kabhi tumse karugi n koi farmaish
aish-o-aaram ki jagegi n dil me khwahish
fatima biwi ki beti hu bharosa rakho
mai tumhare liye jiti hu bharosa rakho
lakh dukh dard ho has has ke gujar kar lungi
pet par bandh ke patthar bhi basar kar lungi
tum mujhe chhod ke mat jao mere paas raho

tum agar ajoge pardesh saja kar apna
aur ab jaoge chamka ke mukddar apna
mere chehre ki chamak khak me mil jayengi
meri zulfe se ye khushbo bhi nahi jayegi
hire aur moti pahan kar bhi n saj paungi
surkh jude me bhi bewa si nazar aaungi
tum mujhe chhod ke mat jao mere paas raho

darde furkat gham e tanhai n sah paungi
mai akeli kisi surat bhi n rah paungi
mere daman ke liye baag me kante n chuno
tumne jane ki agar thaan li dil me to suno
apne hatho se mujhe zahar pila kar jana
meri mitti ko bhi mitti me milakar jana
tum mujhe chhod ke mat jao mere paas raho - Shabeena Adeeb

Post a Comment

 
Top