0
हम जौर भी सह लेंगे, मगर डर है तो यह है
ज़ालिम को कभी फूलते-फलते नहीं देखा

अहबाब की यह शाने-हरीफ़ाना सलामत
दुश्मन को भी यूं ज़हर उगलते नहीं देखा

वो राह सुझाते हैं, हमें हज़रते-रहबर
जिस राह पे उनको कभी चलते नहीं देखा - अर्श मलसियानी ( 1908-1979)

Roman

hum jor bhi sah lenge, magar dar hai to yah hai
zalim ko kabhi phulte-phalte nahi dekha

ahbaab ki yah shabe-harifana salamat
dushman ko bhi yun zahar uglate nahi dekha

wo raah sujhate hai, hame hajrate-rahbar
jis raah pe unko kabhi chalte nahi dekha- Arsh Malsiyani

Post a Comment

 
Top