0
साफ़ ज़ाहिर है निगाहों से कि हम मरते हैं
मुँह से कहते हुए ये बात मगर डरते हैं

एक तस्वीर-ए-मुहब्बत है जवानी गोया
जिस में रंगो की एवज़ ख़ून-ए-जिगर भरते हैं

इशरत-ए-रफ़्ता ने जा कर न किया याद हमें
इशरत-ए-रफ़्ता को हम याद किया करते हैं

आसमां से कभी देखी न गई अपनी ख़ुशी
अब ये हालात हैं कि हम हँसते हुए डरते हैं

शेर कहते हो बहुत ख़ूब तुम "अख्तर" लेकिन
अच्छे शायर ये सुना है कि जवां मरते हैं -अख्तर अंसारी
मायने
रंगो की एवज़= बदले, इशरत-ए-रफ़्ता=गुजरे हुए खुशी भरे दिन

Roman

saaf zahir hai nigaaho se ki ham marte hai
munh se kahte hue ye baat magar darte hai

ek tasweer-e-muhbbat hai jawani goya
jis me rango ki evaz khoon-e-zigar bharte hai

ishrat-e-rafta ne ja kar n kiya yaad hame
ishrat-e-rafta ko hum yaad kiya karte hai

aasmaan se kabhi dekhi n gai apni khushi
ab ye halat hai ki hum haste hue darte hai

sher kahte ho bahut khoob tum "Akhtar" lekin
achche shayar se suna hai ki jawaan marte hai - Akhtar Ansari

Post a Comment

 
Top