0
महकते गुलशनों में तितलियाँ आती ही आती हैं
अगर दिल साफ़ रक्खो नेकियाँ आती ही आती हैं

मैं उससे कम ही मिलता हूँ, सुना है मैंने लोगों से
ज़ियादा मेल हो तो दूरियाँ आती ही आती हैं

सुबह से मनचले यूँ ही तो मडराते नहीं रहते
ये पनघट है यहाँ पनहारियाँ आती ही आती हैं

मैं कहता हूँ सियासत में तू क़िस्मत आज़मा ही ले
तुझे दुनिया की सब मक्कारियाँ आती ही आती हैं

कुसूर उसका नहीं, गर वो ख़ुदा ख़ुद को समझता है
जो दौलत हो तो ये ख़ुशफ़हमियाँ आती ही आती हैं

जुनूने-इश्क़, दर्दे-दिल का कैसा ये गिला पगले
जवानी में तो ये बीमारियाँ आती ही आती हैं

अगर बत्तीस हो सीना, पुलिस के काम का है तू
ज़माने भर की तुझको गालियाँ आती ही आती हैं

‘अकेला’ हक़बयानी ने सड़क पर ला दिया तो क्या
भले कामों में कुछ दुश्वारियाँ आती ही आती हैं- विरेन्द्र खरे अकेला

Roman


mahkate gulshan me titliya aati hi aati hai
agar dil saf rakho nekiya aati hi aati hai

mai usse kam hi milta hu, suna hai mene logo se
jyada mail ho to duriya aati hi aati hai

subah se manchale yun hi to mandrate nahi rahte
ye panghat hai yaha panhariya aati hi aati hai

mai kahta hu siyasat me tu kismat aajma hi le
tujhe duniya ki sab makkariya aati hi aati hai

kusur uska nahi, gar wo khuda khud ko samjhata hai
jo doulat ho to ye khushfahmiya aati hi aati hai

junun-e-ishq, darde-dil ka kaisa ye gila pagle
jawani me to ye bimariya aati hi aati hai

agar battis ho seena, police ke kaam ka hai tu
zamane bhar ki tujhko galiya aati hi aati hai

'akela' hakbayani ne sadak par la diya to kya
bhale kamo me kuch dushwariya aati hi aati hai - Virendra Khare Akela

परिचय

विरेन्द्र खरे का जन्म 18 अगस्त 1968 को छतरपुर (म.प्र.) के किशनगढ़ ग्राम में हुआ आपके पिता स्व० श्री पुरूषोत्तम दास खरे एवं माता श्रीमती कमला देवी खरे है | आपने अपनी शिक्षा एम०ए० (इतिहास), बी०एड० में पूरी की | आप प्रमुख रूप से ग़ज़ल, गीत, कविता, व्यंग्य-लेख, कहानी, समीक्षा आलेख विधाओ में लिखते है | आप अपनी रचनाओ में उपनाम "अकेला" उपयोग करते है |
Virendra Khare Akela

आपकी तीन किताबे प्रकाशित हो चुकी है जिनमे
1. शेष बची चौथाई रात 1999 (ग़ज़ल संग्रह),
2. सुबह की दस्तक 2006 (ग़ज़ल-गीत-कविता),
3. अंगारों पर शबनम 2012(ग़ज़ल संग्रह) शामिल है |

आपकी कई रचनाये वागर्थ, कथादेश, वसुधा, शुक्रवार सहित विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई है एवं लगभग 22 वर्षों से आकाशवाणी छतरपुर से रचनाओं का निरंतर प्रसारण होता आ रहा है | आपकी कई रचनाये आकाशवाणी द्वारा गायन हेतु भी ली गयी है |

आपके ग़ज़ल-संग्रह 'शेष बची चौथाई रात' पर अभियान जबलपुर द्वारा 'हिन्दी भूषण' अलंकरण दिया गया | इसके अतिरिक्त मध्यप्रदेश हिंदी साहित्य सम्मेलन एवं बुंदेलखंड हिंदी साहित्य-संस्कृति मंच सागर [म.प्र.] द्वारा कपूर चंद वैसाखिया 'तहलका', अ०भा० साहित्य संगम, उदयपुर द्वारा काव्य कृति ‘सुबह की दस्तक’ पर राष्ट्रीय प्रतिभा सम्मान के अन्तर्गत 'काव्य-कौस्तुभ' सम्मान तथा लायन्स क्लब द्वारा ‘छतरपुर गौरव’ सम्मान मिला |

वर्तमान में आप अध्यापन कार्य कर रहे है | आपसे निम्न पते व नंबर पर संपर्क किया जा सकता है :

सम्पर्क : छत्रसाल नगर के पीछे, पन्ना रोड, छतरपुर (म.प्र.)पिन-471001
मोबाइल फ़ोन नम्बर-09981585601
Email-virendraakelachh@gmail.com

Post a Comment Blogger

 
Top