0
कर चुके हम फ़ैसला अब कुछ भी हो
इश्क़ में इस दिल का यारब कुछ भी हो

चारा साज़ों को नहीं कोई ग़रज़
दर्द बीमारों को मतलब कुछ भी हो

हारने का ख़ौफ़ दिल में किस लिए
आ गये मैदान में अब कुछ भी हो

बोल मत कुछ भी समन्दर के ख़िलाफ़
देख कर सूखे हूए लब कुछ भी हो

कब तलक ओढ़े रहेंगे बे हिसी
चुप रहेंगे कब तलक सब कुछ भी हो - राज़िक़ अंसारी

Roman

kar chuke hum faisla ab kuch bhi ho
ishq me is dil ka yarab kuch bhi ho

chara sajo ko nahi koi garaj
dard bimaro ko matlab kuch bhi ho

harne ka khouf dil me kis liye
aa gaye maidan me ab kuch bhi ho

bol mat kuch bhi samndar ke khilaf
dekh kar sujhe hue lab kuch bhi ho

kab talak odhe rahenge behisi
chup rahenge kab talak sab kuch bhi ho - Razique Ansari

Post a Comment

 
Top