0
सामने हों गर आँखे तेरी तो समन्दर की ज़रूरत कहाँ है
लिपटी हो मेरे सीने से तू तो फिर कोई और हसरत कहाँ है

ढूँढता फिर रहा था जिस जन्नत को इतने अरसे से मै
ये अब जाना की सिवाय तेरी बाहों के और कहीं जन्नत कहाँ है

क्या करूँ पड़ गयी है तेरे करीब रहने की इस क़दर आदत मुझे
की तुझसे एक लम्हा भी दूर रहने की मुझमे हिम्मत कहाँ है

गर देखता रहूँ बगैर पलक झपकाए ये बेपनाह हुस्न तेरा
तो फिर इस जहां में कुछ और देखने की मुझे फुरसत कहाँ है

जिसे देखते ही भूल जाऊ अपनी जिंदगी की तमाम तकलीफें मै
पूरी कायनात में सिवाय तेरे और किसी की ऐसी सूरत कहाँ है

है गवाह 'आतिफ' की तुझे देखते ही छुपता है चाँद बादलों में
की सामना करे तेरे नूर का चाँद में भी इतनी जुर्रत कहाँ है- सय्यद सबाह उर रहमान 'आतिफ'

Roman

Saamne hon Gar Aankhen Teri To Samandar ki zarurat kahaan hai,
Lipti ho Mere Seene se Tu to Phir Koi Aur Hasrat kahan hai.

Dhoondta Phir Raha tha Jis Jannat ko Itne Arse Se Main,
Ye ab Jaana Ki siwaye Teri Baahon Ke aur Kahin Jannat Kahaan hai.

Kya Karun Pad Gayi hai Tere Qareeb Rehne Ki Is qadar Aadat Mujhe,
Ki Tujhse ek Lamha bhi Door Rehne Ki Mujhme Himmat Kahaan hai.

Gar dekhta Rahun Baghair Palak Jhapkaye ye Bepanah Husn Tera,
To Phir is jahan me Kuchh Aur Dekhne Ki Mujhe Fursat Kahaan hai.

Jise Dekhte hi Bhool Jaun apni Zindagi ki Tamaam Takleefein main,
Poori Kaynaat me Siwaye Tere Aur Kisi Ki Aisi Soorat Kahaan Hai.

Hai Gawah ‘Aatif’ ki Tujhe Dekhte hi Chhupta hai Chaand Badlon me,
Ki Saamna Kare Tere Noor Ka Chaand Me bhi Itni Jurrat Kahaan hai.-SYED SABAH UR REHMAN-‘Aatif’


आप आतिफ तखल्लुस से लिखते है |
आप ८ वर्ष की उम्र से शायरी करते आ रहे है आपने "मेरे ज़ज्बात " नाम से अपनी शायरी की किताब लिखी है| You can read his poetry on https://merejazbaat.com/

Post a Comment Blogger

 
Top