0
बारिश की बूंदों से जलती हीय में मेरे आज सुलगती
पीपल के पत्तो की फडफड, जैसे दिल की धडकन धडधड
चूल्हे पर चढ़ गयी कढाई, दूर हुई दिल की तन्हाई
लेकिन सबकुछ लागे ऐसा, बिन साजन के सावन कैसा
चलती है सौंधी पुरबाई, हुए इकट्ठे लोग लुगाई
उनके वो और वो हैं उनकी, खड़ी अकेली में हूँ किनकी
हाय रे हाय ये शाम का ढलना, रात बिरहिनी सुबह का खिलना
लेकिन सब कुछ लागे ऐसा, बिन साजन के सावन कैसा

रात में मोहे चाँद चिढाता, दिन में सूरज सिर चढ़ आता
आँखों में यादों के डोरे, साजन में तुम चाँद चकोरे
बहुत हुई तेरी रुसवाई, जाता सावन ओ हरजाई
लेकिन सब कुछ लागे ऐसा, बिन साजन के सावन कैसा

सास ननद का ताने कसना, तेरी यादें खट्टी रसना
सखी सहेली करें ठिठोली, मोहे न सुहाए उनकी बोली
बारिश की ठंडी बौछारें, सिहरन मुझको मारे डारें
लेकिन सब कुछ लागे ऐसा, बिन साजन के सावन कैसा

अब के आजा ओरे सईयाँ, डाल दे मोरे गले में बहियाँ
में बन जाऊं तेरी चेरी, सौलह की हो जाऊं छोरी
लाल लिपस्टिक मांग सिंदूरी, रेशमी जुल्फें बदन अंगूरी
लेकिन सब कुछ लागे ऐसा, बिन साजन के सावन कैसा

सजनी से साजन का मिलना, शरबत में चीनी का घुलना
रात चांदनी और मिलन सजन का, मन से मन और मिलन बदन का
में बगिया की हुई मोरनी, साजन के दिल की हूँ चोरनी
लेकिन सब कुछ लागे ऐसा, बिन साजन के सावन कैसा - धर्मेन्द्र राजमंगल

Roman

barish ki bund se jalti hiy me mere aaj sulgati
pipla ke patto ki fadfad, jaise dil ki dhadkan dhaddhad
chulhe par chadh gayi kadhai, door hui dil ki tanhai
lekin sab kuch lage aisa, bin sajan ke sawan kaisa

chalti hai sondhi purbaai, hue iktthe log lugaai
unke wo aur wo hai unki, khadi akeli mai hun kinki
haay re haay ye sham ka dhalna, raat birhani subah ka khilna
lekin sab kuch lage aisa, bin sajan ke sawan kaisa

raat me mohe chand chidata, din me suraj sir chad aata
aankho me yaado ke dore, sahab me tum chand chakore
bahut hui teri ruswai, jata sawan o harjaai
lekin sab kuch lage aisa, bin sajan ke sawan kaisa

saas nanand ka taane kasna, teri yaade khatti rasna
sakhi saheli kare thitholi, mohe n suhaye unki boli
barish ki thandi bochhare, sihran mujhko mare dare
lekin sab kuch lage aisa, bin sajan ke sawan kaisa

ab ke aaja ore saiyaa, daal de more gale gale me bahiya
mai ban jau teri cheri, soulah ki ho jau chhori
lal lipistic maang sinduri, rehsmi julfe badan anguri
lekin sab kuch lage aisa, bin sajan ke sawan kaisa

sajni se sajan ka milna, sharbat me chini ka ghulna
raat chandni aur milan sajan ka, man se man aur milan badan ka
mai bagiya ki hui morni, sajan ke dil ki hun chorni
lekin sab kuch lage aisa bin sajan ke sawan kaisa - Dharmendra Rajmangal

Post a Comment Blogger

 
Top