0
नई आस्तीन - shakeel aazmi
न मेरे ज़हर में तल्ख़ी रही वो पहली सी
बदन में उस के भी पहला सा ज़ाइक़ा/ज़ायका न रहा

हमारे बीच जो रिश्ते थे सब तमाम हुए
बस एक रस्म बची है शिकस्ता पुल की तरह

कभी-कभार जवाब भी हमें मिलाती है
मगर ये रस्म भी इक रोज़ टूट जाएगी

अब उस का जिस्म नए साँप की तलाश में है
मिरी हवस भी नई आस्तीन ढूँढती है - शकील आज़मी

Roman

n mere zahar me talkhi rahi wo pahle si
badan me us ke bhi pahla sa zayka n raha

hamare beech jo rishte the sab tamaam hue
bas ek rasm bachi hai shiksta pppl ki tarah

kabhi-kabhaar jawab bhi hame milati hai
magar ye rasm bhi ek roz tut jayegi

ab us ka jism nay saap ki talash me hai
miri hawas bhi nai aasteen dhundhti hai - Shakeel Aazmi

इस नज़्म को सुनते है शकील आज़मी साहब की ही आवाज़ में

Post a Comment Blogger

 
Top