0
naya saal hai aaj
वक़्त यूँ ही न गँवाओ कि नया साल है आज
दोस्तो, जाम उठाओ, कि नया साल है आज

और होता कोई दिन तो कोई बात न थी
आज पहलू से न जाओ कि नया साल है आज

कीजिए कुछ नया, कहता है बदलता मौसम
नए कुछ दोस्त बनाओ, कि नया साल है आज

किस्मतों से हुआ करता है हसीनों से विसाल
दिलों की प्यास बुझाओ, कि नया साल है आज

ज़िंदगी आएगी अभी देखना झूमती-गाती
ज़रा माहौल बनाओ कि नया साल है आज

फ़ैसले करने हैं हमको कई अहम बहुत ही
नए वक़्तों को बुलाओ कि नया साल है आज

मोड़ दो चाहे जिधर सिरफिरे दरियाओं का रुख
आज की मस्त हवाओ, कि नया साल है आज

एक पहलू से बहें अश्क, खिले दूजे से फूल
वो ग़ज़ल आज सुनाओ, कि नया साल है आज

इल्तिज़ा करते रहे सारा बरस, आप आएँ
आज घर हमको बुलाओ कि नया साल है आज

आसमानों पे बड़ा नाज़ है तुमको फ़रिश्तो
आँख धरती से मिलाओ कि नया साल है आज

आज रह जाए न अरमान कोई दिल में 'सलिल'
कल पे कुछ भी न उठाओ की नया साल है आज - कुलदीप सलिल
नया साल है आज

Roman
waqt yun hi n gawao ki naya saal hai aaj
dosto, jaam uthao, ki naya saal hai aaj

aur hota koi din to koi baat n thi
aaj pahlu se n jao, ki naya saal hai aaj

kijiye kuch naya, kahta hai badlata mousam
naye kuch dost banao, ki naya saal hai aaj

kismato se hua karta hai hasino se wisal
dilo ki pyas bujhao, ki naya saal hai aaj

zindgi aayegi abhi dekhna jhumti-gaati
zara mahoul banao ki naya saal hai aaj

faisle karne hai hamko kai aham bahut hi
naye waqto ko bulao ki naya saal hai aaj

mod do chahe jidhar sirfire dariyao ka rukh
aaj ki mast hawao, ki naya saal hai aaj

ek pahlu se bahe ashq, khile duje se phool
wo ghazal aaj sunao, ki naya saal hai aaj

iltiza karte rahe sara baras, aap aaye
aaj ghar hamko bulao ki naya saal hai aaj

aasmano pe bada naaz hai tumko farishto
aankh dharti se milao ki naya saal hai aaj

aaj rah jaye n armaan koi dil me 'Salil'
kal pe kuch bhi n uthao ki naya saal hai aaj - Kuldeep Salil
Next
This is the most recent post.
Previous
Older Post

Post a Comment Blogger

 
Top