1
दिल में रहने की फिर उम्मीद लगायी जाए  - हिलाल बदायुनी
दिल में रहने की फिर उम्मीद लगायी जाए - हिलाल बदायुनी

दिल में रहने की फिर उम्मीद लगायी जाए ! पहले दिल दिल में कोई राह बनायीं जाए !! जिसमे सच्चाई की लज्ज़त हो वफ़ा की खुशबु ! मुंह से बस ऐ...

Read more »

0
आख़िरी टीस आज़माने को - अदा जाफ़री
आख़िरी टीस आज़माने को - अदा जाफ़री

आख़िरी टीस आज़माने को जी तो चाहा था मुस्कुराने को याद इतनी भी सख़्तजाँ तो नहीं इक घरौंदा रहा है ढहाने को संगरेज़ों में ढल गये आँसू लोग...

Read more »

0
एक ख्वाहिश है बस - अभिषेक कुमार अम्बर
एक ख्वाहिश है बस - अभिषेक कुमार अम्बर

एक ख्वाहिश है बस दीवाने की, तेरी आँखों में डूब जाने की। साथ जब तुम निभा नहीं पाते , क्या जरूरत थी दिल लगाने की। आज जब आस छोड़ दी मैं...

Read more »

0
वो तो मुद्दत से जानता है मुझे - बेकल उत्साही
वो तो मुद्दत से जानता है मुझे - बेकल उत्साही

आज सुबह बड़ी दुखद खबर आई उर्दू शायरी के बुजुर्गो में शामिल पद्मश्री बेकल उत्साही साहब अब नहीं रहे | और साथ ही साथ कल  रऊफ़ रज़ा  साहब भी इस द...

Read more »
 
 
Top