0
ऊँचा है पर्वत - अशोक बाबू माहौर
ऊँचा है पर्वत - अशोक बाबू माहौर

  ऊँचा है पर्वत कद उसका ऊँचा न झुका न झुकेगा अटल हैं इरादे विश्वास के अम्बार खड़ा मूक अव...

Read more »

0
आसमाँ मिल न सका, धरती पे आया न गया - इमरान हुसैन आज़ाद
आसमाँ मिल न सका, धरती पे आया न गया - इमरान हुसैन आज़ाद

आसमाँ मिल न सका, धरती पे आया न गया ज़िन्दगी हमसे कोई ठौर बनाया न गया घर की वीरानियाँ रुसवा हुईं...

Read more »

0
 नाशाद हूँ पहले ही अब दिल न दुखाओ तुम - महेश चन्द्र गुप्त ख़लिश
नाशाद हूँ पहले ही अब दिल न दुखाओ तुम - महेश चन्द्र गुप्त ख़लिश

नाशाद हूँ पहले ही अब दिल न दुखाओ तुम इस रक्से-मुहब्बत से मत और रिझाओ तुम भूला न अभी तक हूँ अंजाम मुहब्बत का नग़मा-ए- वफ़ा गा कर फिर से ...

Read more »

0
बाबूजी - आलोक श्रीवास्तव
बाबूजी - आलोक श्रीवास्तव

बड़ी मशहूर ग़ज़ल है आलोक श्रीवास्तव जी की बाबूजी आप सबके लिए पेश है : घर की बुनियादें, दीवारें, बामो-दर थे बाबूजी सबको बांधे रखने वाला ख़ास...

Read more »

0
होंठ सींकर जख्म मेरे अधखुले से रह गये - कमलेश संजीदा
होंठ सींकर जख्म मेरे अधखुले से रह गये - कमलेश संजीदा

होंठ सींकर जख्म मेरे अधखुले से रह गये दिल की उस वेदना को भी बस सीने में दबाकर रह गये दूसरों के जख...

Read more »

0
हमारा देश - इब्ने इंशा
हमारा देश - इब्ने इंशा

आज इब्ने इंशा जी का जन्म दिवस आज याने १५ जून को है इस मौके पर उनकी यह रचना पेश है आशा है आपको यह पसंद आएगी " ईरान में कौन रहता है? &...

Read more »

0
इश्क़ का रोग भला कैसे पलेगा मुझसे - प्रखर मालवीय 'कान्हा'
इश्क़ का रोग भला कैसे पलेगा मुझसे - प्रखर मालवीय 'कान्हा'

इश्क़ का रोग भला कैसे पलेगा मुझसे क़त्ल होता ही नहीं यार अना का मुझसे गर्म पानी की नदी खुल गयी स...

Read more »

0
काबा की बात कर न शिवाले की बात कर -दिनेश पाण्डेय "दिनकर"
काबा की बात कर न शिवाले की बात कर -दिनेश पाण्डेय "दिनकर"

यह ग़ज़ल दिनेश जी की फेसबुक टाइमलाइन से लिया गया है : काबा की बात कर न शिवाले की बात कर, न भ्रष्टाचार ना ही घोटाले की बात कर। मोहताज हो ...

Read more »
 
 
Top