1
तेरे बारे में जब सोचा नहीं था - मेराज फैजाबादी
तेरे बारे में जब सोचा नहीं था - मेराज फैजाबादी

तेरे बारे में जब सोचा नहीं था मैं तन्हा था मगर इतना नहीं था तेरी तस्वीर से करता था बातें मेरे कमरे में आईना नहीं था समंदर ने मुझे प्य...

Read more »

1
एक टूटी हुई ज़ंजीर की फ़रियाद हैं हम - मेराज फैजाबादी
एक टूटी हुई ज़ंजीर की फ़रियाद हैं हम - मेराज फैजाबादी

एक टूटी हुई ज़ंजीर की फ़रियाद हैं हम और दुनिया ये समझती है के आज़ाद हैं हम क्यों हमें लोग समझते हैं यहाँ परदेसी इक मुद्दत से इसी शहर में आ...

Read more »

0
इस दर्ज़ा हुआ ख़ुश के डरा दिल से बहुत मैं - बाक़र  मेहंदी
इस दर्ज़ा हुआ ख़ुश के डरा दिल से बहुत मैं - बाक़र मेहंदी

इस दर्ज़ा हुआ ख़ुश के डरा दिल से बहुत मैं ख़ुद तोड़ दिया बढ़ के तमन्नाओं का धागा ता-के न बनूँ फिर कहीं इक बंद-ए-मजबूर हाँ कैद़-ए-मोहब्ब...

Read more »

0
मेरे ख्वाबों के झरोखों को सजाने वाली - साहिर लुधियानवी
मेरे ख्वाबों के झरोखों को सजाने वाली - साहिर लुधियानवी

मेरे ख्वाबों के झरोखों को सजाने वाली तेरे ख्वाबों में कही मेरा गुजर है कि नहीं पूछकर अपनी निगाहों से, बता दे मुझको मेरी रातो में मुकद्द...

Read more »
 
 
Top