0
abhishek kumar ambar shayari hindi
एक ख्वाहिश है बस दीवाने की,
तेरी आँखों में डूब जाने की।

साथ जब तुम निभा नहीं पाते ,
क्या जरूरत थी दिल लगाने की।

आज जब आस छोड़ दी मैंने,
तुमको फुरसत मिली है आने की।

आज दीदार हो गया उसका,
अब जरुरत नही मदीने की।

तेरी हर चाल समझता हूँ मैं,
तुझको आदत है दिल दुखाने की।

हम तो ख़ानाबदोश हैं लोगों,
हमसे मत पूछिये ठिकाने की। - अभिषेक कुमार अम्बर

Roman


ek khwahish hai bas deewane ki
teri aankho me doob jane ki

sath jab tum nibha nahi pate
kya jarurat thi dil lagane ki

aaj jab aas chhod di maine
tumko fursat mili hai aane ki

aaj deedar ho gaya uska
ab jarurat nahi madine ki

teri har chaal samjhata hu mai
tujhko aadat hai dil dukhane ki

ham to khanabadosh hai logo
hamse mat puchiye thikane ki - Abhishek Kumar Ambar

Post a Comment

 
Top