0
आख़िरी टीस आज़माने को,  Aakhiri tees aajmaane ko
आख़िरी टीस आज़माने को
जी तो चाहा था मुस्कुराने को

याद इतनी भी सख़्तजाँ तो नहीं
इक घरौंदा रहा है ढहाने को

संगरेज़ों में ढल गये आँसू
लोग हँसते रहे दिखाने को

ज़ख़्म-ए-नग़्मा भी लौ तो देता है
इक दिया रह गया जलाने को

जलने वाले तो जल बुझे आख़िर
कौन देता ख़बर ज़माने को

कितने मजबूर हो गये होंगे
अनकही बात मुँह पे लाने को

खुल के हँसना तो सब को आता है
लोग तरसते रहे इक बहाने को

रेज़ा रेज़ा बिखर गया इन्साँ
दिल की वीरानियाँ जताने को

हसरतों की पनाहगाहों में
क्या ठिकाने हैं सर छुपाने को

हाथ काँटों से कर लिये ज़ख़्मी
फूल बालों में इक सजाने को

आस की बात हो कि साँस अदा
ये ख़िलौने हैं टूट जाने को - अदा जाफ़री

Roman

Aakhiri tees aajmaane ko
ji to chaha tha muskurane ko

yaad itni bhi sakhtzaa to nahi
is gharonda raha hai dhahane ko

sangrezo me dhal gaye aansu
log haste rahe dikhane ko

zakhm-e-nagma bhi lou to deta hai
ek diya raha gaya jalane ko

jalne wale to jal bujhe aakhir
koun deta hai khabar zamane ko

kitne majboor ho gaye honge
ankahi baat muh pe lane ko

khul ke hasana to sab ko aata hai
log tarsate rahe is bahane ko

reza reza bikhar gaya insan
dil ki veeraniyan jatane ko

hasrato ki panahgaho me
kya thikane hai sar chupane ko

hath kaanto se kar liye zakhmi
phool balo me ik sajane ko

aas ki baat ho ki saans aad
ye khilone hai tut jaane ko -Ada Zafri

Post a Comment Blogger

 
Top