0
दश्ते-वहशत का सफ़र लगता है
इश्क़ भी कारे-हुनर लगता है

शाख़ मौसम के सितम झेलती है
फिर कहीं जा के समर लगता है

हम की जिस राह पे चल निकले हैं
ये तो सदियों का सफ़र लगता है

इक अजब शख़्स बसा है मुझमें
आईना देखूँ तो डर लगता है

आदमी ख़ुद से बिछड़ जाये अगर
अजनबी अपना ही घर लगता है

इश्क़ की आग में जलकर देखो
शब का आलम भी सहर लगता है

वक़्त क्या आन पड़ा है 'सागर'
अपने साये से भी डर लगता है - इम्तियाज़ सागर
मायने
दश्ते-वहशत =भय का जंगल ; समर=फल

Roman

dashte-wahshat ka safar lagta hai
ishq bhi kare-hunar lagta hai

shakh mousam ke sitam jhelti hai
fir kahi ja ke samar lagta hai

hum ki jis raah pe chal nikle hai
ye to sadiyon ka safar lagta hai

is ajab shakhs basa hai mujhme
aaina dekhu to dar lagta hai

aadmi khud se bichad jaye agar
ajnabi apna hi ghar lagta hai

ishq ki aag me jalkar dekho
shab ka aalam bhi sahar lagta hai

waqt kya aan pada hai "Sagar"
apne saye se bhi dar lagta hai - Imtiyaz Sagar

Post a Comment Blogger

 
Top