0

अब काम दुआओं के सहारे नहीं चलते


अब काम दुआओं के सहारे नहीं चलते
चाबी न भरी हो तो खिलौने नहीं चलते

अब खेल के मैदान से लौटो मेरे बच्चो
ता उम्र बुजुर्गों के असासे नहीं चलते

इक उम्र के बिछुडो़ का पता पूछ रहे हो,
दो रोज़ यहाँ ख़ून के रिश्ते नहीं चलते

ग़ीबत मे निकल जाते है तफ़रीह के लम्हे
अब महफ़िल-ए-याराँ में लतीफ़ें नहीं चलते

यह विल्स का पॅकेट, ये सफ़ारी, ये नगीने
हुज़रो में मेरे भाई ये नक़्शे नहीं चलते

लिखने के लिये क़ौम का दुख-दर्द बहुत है
अब शेर में महबूब के नखरे नहीं चलते-शकील जमाली

Roman

Ab kaam duao ke sahare nahi chalte
chabi n bhari ho to khilone nahi chalte

ab khel ke maidan se loto mero bachcho
taumra bujurg ke asase nahi chalte

ik umra ke bichdo ka pata puch rahe ho
do roz yaha khoon ke rishte nahi chalte

geebat me nikal jate hai tafreeh ke lamhe
ab mahfile-yaro me latife nahi chalte

yah wills ka packet, ye safari, ye nagine
hujro me mere bhai ye nakshe nahi chalte

likhne ke liye koum ka dukh-dard bahut hai
ab sher me mahboob ke nakhre nahi chalte - Shakeel Jamali

Post a Comment Blogger

 
Top