0
sikhi nahi jabaan, watan se juda hue / jeene ki dod dhoop me ham kya
सीखी नई ज़बान, वतन से जुदा हुए
जीने की दौड़-धुप में हम क्या से क्या हुए

फुटपाथ पर पड़े थे तो खाते थे ठोकरें
मंदिर में आके बैठ गए और खुदा हुए

शाखें पुकारती रहे, पीपल के पेड़ की
पत्ते की तरह से उड़े तुझ को, हवा हुए

परछाईं बन के साथ रहे तेज़ धूप में
बीमार दोस्तों के लिए हम दवा हुए

तब्दीलियाँ न पूछिए, उनके मिजाज़ की
लू बन गए कभी, कभी बादे-सबा हुए - सलमान अख्तर

Roman

Sikhi nai jaban, watan se juda hue
jeene ki dod-dhoop me ham kya se kya hue

futpath par pade the to khate the thokare
mandir me Aaake baith gaye aur khuda hue

shakhe pukarati rahe, peepal ke ped ki
patte ki tarah se ude tujh ko, hawa hue

parchai ban ke sath rahe tej dhoop me
beemar dosto ke liye ham dawa hue
tabdiliya n puchite, unke mijaz ki
lu ban gaye kabhi, kabhi bade-saba hue- Salman Akhtar

Post a Comment Blogger

 
Top