0
न हो शोहरत तो गुमनामी का भी खतरा नहीं होता
बहुत मशहूर होना भी बहुत अच्छा नहीं होता,

फसादों,हादसों,जंगो में ही हम एक होते है
कोई आफत ना आये तो, कोई अपना नहीं होता,

समझने लगता है दुनिया को बच्चा, पैदा होते ही
अब इस दुनिया में बच्चा बनके वो पैदा नहीं होता,

बरसता टूट कर दीवानावार इस प्यासी धरती पे
किसी जंगल पे ये बादल अगर बरसा नहीं होता,

अँधेरा घर में, बाहर रोशनी ऐसा भी होता है
किसी का दिल तो होता है बुरा, चेहरा नहीं होता,

मिला लेता है मैला हाथ मिलकर कोई भी लेकिन
मिलाता है नजर वो,जिसका दिल मैला नहीं होता,

कभी 'अहमद वसी' शेरो में रंगे-मीर आ जाये
हम ऐसा चाहते तो है मगर ऐसा नहीं होता - अहमद वसी

Roman

n ho shohrat to gumnami ka bhi khatra nahi hota
bahut mashhoor hona bhi bahut achcha nahi hota

fasado, hadso, jungo me hi ham ek hote hai
koi aafat n aaye to, koi apna nahi hota

samjhne lagta hai duniya ko bachcha, paida hote hi
ab is duniya me bachcha banke wo paida nahi hota

barsata tut kar deewanagar is pyasi dharti pe
kisi jangal pe ye badal agar barsa nahi hota

andhera ghar me, bahar roshni aisa bhi hota hai
kisi ka dil to hota hai bura, chehra nahi hota

mila leta hai maila hath milkar koi bhi lekin
milata hai nazar wo, jiska dil maila nahi hota

kabhi 'Ahmad Wasi' shero me range-meer aa jaye
hum aisa chahte to hai magar aisa nahi hota- Ahmad Wasi

Post a Comment Blogger

 
Top