0
लगता नहीं है दिल मेरा उजड़े दयार में
किसकी बनी है आलम-ए-ना-पाएदार में

कह दो न इन हसरतो से कही और जा बसे
इतनी जगह कहा है दिन –ए-दागदार में

बुलबुल से कोई शिकवा न सय्याद से गिला
किस्मत में कैद लिखी थी फ़स्ल-ए-बहार में

उम्र-ए-दराज मांग के लाये थे चार दिन
दो आरजू में कट गए, दो इंतज़ार में

कितना है बदनसीब ज़फर दफ्न के लिए
दो गज़ ज़मीन भी न मिली कू-ए-यार में – बहादुर शाह ज़फर

Roman

Lagta nahi hai dil mera ujde dayar me
kiski bani hai aalam-e-na-paedar me

kah do n in hasrato se kahi aur ja base
itni jagah kaha hai din-e-dagdar me

bulbul se koi shikwa n sayyad se gila
kismat me kaid likhi thi fasl-e-bahar me

umra-e-daraj mang ke laye the char din
do aarzu me kat gaye, do intezaar me

kitna hai badnaseeb zafar dafan ke liye
do gaz zameen bhi n mili ku-e-yaar me - Bahadur Shah Zafar

zafar Shayari, Bahadur shah zafar shayari, bahadur shah zafar poetry

Post a Comment Blogger

 
Top