0
निदा  फाजली साहब को जन्मदिन की हार्दिक बधाई | आप सभी के लिए उनकी यह गज़ल

आँख को जाम लिखो ज़ुल्फ को बरसात लिखो
जिस से नाराज हो उस शख्स की हर बात लिखो

जिस से मिलकर भी न मिलने की कसक बाकी है
उसी अंजन शहंशाह की मुलाकात लिखो

जिस्म मस्जिद की तरह आँखे नमाजो जैसी
जब गुनाहों में इबादत थी वो दिन रात लिखो

इस कहानी का तो अंजाम वही है जो था
तुम जो चाहो तो मोहब्बत की शुरुवात लिखो

जब भी देखो उसे अपनी नजर से देखो
कोई कुछ भी कहे तुम अपने ख्यालात लिखो - निदा फाजली

Roman

aankh ko jaam likho lutf ko barsat likho
jis se naraj ho us shakhs ki har baat likho

jis se milkar bhi n milne ki kasak baaki hai
usi anjan shahnshah ki mulakat likho

jism masjid ki tarah aankkhe namajo jaisi
jab gunaho me ibadat thi wo din raat likho

is kahani ka to anjaam wahi hai jo tha
tum jo chaaho to mohabbat ki shuruwat likho

jab bhi dekho use apni nazar se dekho
koi kuch bhi kahe tum apne khayalat likho - Nida Fazli
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top