0
थाम दामन उन्हें हम बिठाते रहे
ज़ुल्फ़ झटकाए वो दूर जाते रहे

जब तबीयत ज़रा तल्ख़ उनकी हुई
हैं गुनाहगार हम ये बताते रहे

बारहा तोड़ना प्यार के वायदे
ये रसम वो हमेशा निभाते रहे

एक हम थे कि उन पे भरोसा किए
ख़्वाब-पर- ख़्वाब मन में सजाते रहे

ना मुलाकात उनसे ख़लिश हो सकी
वो तसव्वुर में हर रात आते रहेमहेश चन्द्र गुप्त ख़लिश

Roman

Tham daman unhe hum bithate rahe
zulf jhatkaye wo door jate rahe

jab talkh zara tabiyat unki hui
hai gunahgaar ham ye batate rahe

barha todna pyar ke wayde
ye rasam wo hamesha nibhate rahe

ek ham the ki un pe bharosa kiye
khwab par khwab man me sajate rahe

n mulakat unse Khalish ho saki
wo tasawwur me har raat aate rahe - Mahesh chandra Gupt Khalish
Dard shayari, Khalish shayari, Mahesh chandra gupt khalish shayari

Post a Comment Blogger

 
Top