0
किसने ऐसा किया इशारा था
खत मेरा था पता तुम्हारा था

तुम ये कहते हो भूल जाऊ मै
तुमने चेहरा मेरा उतारा था

काम आई फिर अपनी ताकत ही
कोई किसका यहाँ सहारा था

हम अदालत में झूठ कह बैठे
और बाकी न कोई चारा था

सिर्फ इकबार तुम तो सुन लेते
मेने तुमको अगर पुकारा था

इश्क में बात ये अहम ही नहीं
कौन जीता था कौन हारा था

उसको कहते थे लोग सब जालिम
फिर भी बच्चा वो माँ का प्यारा था –डॉ. ज़िया उर रहमान जाफ़री

Roman

Kisne aisa kiya ishara tha
khat mera tha pata tumhara tha

tum ye kahte ho bhul jau mai
tumne chehra mera utara tha

kaam aai fir apni takat hi
koi kiska yaha sahara tha

ham adalat me jhuth kah baithe
aur baki n koi chara tha

sirf ek bar tum to sun lete
maine tumko agar pukara tha

ishq me baat ye aham hi nahi
koun jeeta tha koun hara tha

usko kahte the log sab zalim
fir bhi bachcha wo maa ka pyara tha - zia ur rehman jafri
#jakhira
Dr Zia ur rehman zafri, डॉ. ज़िया उर रहमान जाफ़री, डॉ. ज़िया उर रहमान जाफ़री Shayri, Dr. Zia ur rehman zafri shayari

Post a Comment Blogger

 
Top