0
Dil nahi milta saro bazar mil gaya, is koum ki kafas me kya karar mil gya
दिल नहीं मिलता सरो-बाज़ार मिल गया
इस कौम की कफस में क्या करार मिल गया

चाहा था एक लम्हा खुशी का बा-अदब
बद-किस्मती से दर्द का संसार मिल गया

फूलों को देखता था उलझे हुए काँटों से
और बागों को बेरुखी का दीवार मिल गया

था फासला दीवारों का कुछ हमारे दरमियाँ
इसमें भी इब्तिदा का एक दरार मिल गया

ग़ुरबत में काट दिया है हर लम्हा जिंदगी का
आखिर में जो मिला है सब बेकार मिल गया - अज़हर साबरी

Roman

Dil nahi milta saro-baazar mil gaya
Is kaum ki kafash me kya karar mil gaya

Chaha tha ek lamha khushi ka baa-adab
Bad-kismati se dard ka sansar mil gaya

Fulon ko dekhta tha uljhe hue kanto se
Or bagho ko berukhi ka deewar mil gaya

Thaa fasla deewaro ka kuchh hamare darmiyan
Isme bhi ibtida ka ek daraar mil gaya

Gurbat me kaat di hai har lamha zindagi ka
Aakhir me jo mila hai sab bekaar mil gaya - Azhar Sabri

#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top