0
गुनाहगार हूँ उसका जिसपे हरकत उबाल रखा है
उकुबत के बावजूद भी सबका ख्याल रखा है

हर पहलु को नज़र-अंदाज उसने किया फ़हम के साथ
वो है मेरी बीवी जिसने घर को संभाल रखा है

फितना नहीं है अब भी बाग-ऐ-चमन में कोई
जो था मेरे तबियत में सब कुछ निकाल रखा है

आदिल है बेक़सूर है नाजिश नहीं है वो
हर शय में उसका फैसला उसके आमाल रखा है

नूर-ऐ-तबस्सुम का सबब कुछ यूँ हुआ अज़हर
फक़त उसी के वास्ते खुद को कंगाल रखा है - अज़हर साबरी

Roman

Gunahgaar hun uska jispe harkat ubaal rakha hai
Ukoobat ke bawajood bhi sabka khayaal rakha hai

Har pahlu ko nazar-andaaz usne kiya faham ke saath
Wo hai meri biwi jo ghar ko sambhaal rakha hai

Fitna nahi hai ab bhi bagh-e-chaman me koi
Jo tha mere tabiyat me sab kuchh nikaal rakha hai

Aadil hai bekasoor hai nazish nahi hai wo
Har shai me uska faisla uske aamaal rakha hai

Noor-e-tabassum ka sabab kuchh yun hua Azhar
Fakat usi ke waste khud ko kangaal rakha hai - Azhar Sabri
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top