0
नाशाद हूँ पहले ही अब दिल न दुखाओ तुम
इस रक्से-मुहब्बत से मत और रिझाओ तुम

भूला न अभी तक हूँ अंजाम मुहब्बत का
नग़मा-ए-वफ़ा गा कर फिर से न सुनाओ तुम

उनको न जगाओ फिर जो बीत गईं बातें
माज़ी के तसव्वुर को फिर से न बुलाओ तुम

हो घोर अँधेरा तो उजला न कहूँगा मैं
बदलेगा नहीं सच तो गर झूठ बताओ तुम

किस्मत पे मेरी आख़िर अब छोड़ भी दो मुझको
फिर ख़्वाब ख़लिश झूठे मुझको न दिखाओ तुम - महेश चन्द्र गुप्त ख़लिश
मायने 
रक्से-मुहब्बत = प्रेम-नृत्य

Roman

nashad hu pahle hi ab dil n dukhao tum
is rakse-muhbbat se mat aur rijhao tum

bhula n abhi tak hu anjam muhbbat ka
nagma-e-wafa ga kar fir se n sunao tum

unko n jagao fir jo beet gayi baate
manjhi ke taswwur ko fir se n bulao tum

ho ghor andhera to ujla n kahunga mai
badlega nahi sach to gar jhuth batao tum

kismat pe meri aakhir ab chhod bhi do mujhko
fir khwab khalish jhuthe mujhko n dikhao tum - Mahesh Chandra Gupt Khalish
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top