0
यह ग़ज़ल दिनेश जी की फेसबुक टाइमलाइन से लिया गया है :
काबा की बात कर न शिवाले की बात कर,
न भ्रष्टाचार ना ही घोटाले की बात कर।

मोहताज हो गयी जिन्हे दो वक्त की रोटी,
अच्छा हो कि मुफलिस के निवाले की बात कर।

माना कि ए खामोशिया अच्छी नही मगर,
बड़बोली जुबानो पे भी ताले की बात कर।

ऐसे तो न हो पाएगी गंगा की सफाई,
पहले वहा गिरते हुऐ नाले की बात कर।

किस ओर लिए जाता है घनघोर अंधेरा,
सूरज के साथ हो जा उजाले की बात कर।। - दिनेश पाण्डेय "दिनकर"

Roman


kaba ki baat kar n shiwale ki baat kar,
n bhrasthachar na hi ghotale ki baat kar

mohtaj ho gyi jinhe do waqt ki roti,
achcha ho ki muflis ke niwale ki baat kar

mana ki e khamoshiya achchi nahi magar,
badboli jubano pe bhi tale ki baat kar

aise to n ho payegi ganga ki safai,
pahle waha girte hue naale ki baat kar

kis aur liye jata hai ghanghor andhera,
suraj ke sath ho ja ujale ki baat kar - Dinesh Pandey Dinkar
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top