1
तेरे बारे में जब सोचा नहीं था
मैं तन्हा था मगर इतना नहीं था

तेरी तस्वीर से करता था बातें
मेरे कमरे में आईना नहीं था

समंदर ने मुझे प्यासा ही रखा
मैं जब सेहरा में था प्यासा नहीं था

मनाने-रूठने के खेल में हम
बिछड़ जायेंगे ये सोचा नहीं था

सुना है बन्द कर ली उसने आँखें
कई रातों से वो सोया नहीं था - मेराज फैजाबादी

Roman


tere baare me jab socha nahi tha
mai tanha tha magar itna nahi tha

teri tasweer se karta tha baate
mere kamre me aaina nahi tha

samndar ne mujhe pyasa hi rakha
mai jab sehra me tha pyasa nahi tha

manae-ruthne ke khel me ham
bichhad jayenge ye socha nahi tha

suna hai band kar li usne aankhe
kai raato se wo soya nahi tha - Meraj Faizabadi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top