0
मेरे ख्वाबों के झरोखों को सजाने वाली
तेरे ख्वाबों में कही मेरा गुजर है कि नहीं

पूछकर अपनी निगाहों से, बता दे मुझको
मेरी रातो में मुकद्दर के सहर है कि नहीं

चार दिन की ये रफाकत जो रफाकत भी नहीं
उम्र भर के लिए आजार हुई जाती है

जिंदगी यूँ तो हमेशा से परेशान सी थी
अब तो हर साँस गिरांबार हुई जाती है

प्यार पर बस तो नहीं है मेरा, लेकिन फिर भी
तू बता दे की तुझे प्यार करू या न करू

तुने खुद अपने तबस्सुम से जगाया है जिन्हें
उन तमन्नाओ का इजहार करू या न करू - साहिर लुधियानवी

Roman

mere khwabo ke jharokho ko sajane wali
tere khwabo me kahi mera gujar hai ki nahi

puchhkar apni nigaho se, bata de mujhko
meri raato me muqddar ke sahar hai ki nahi

char din ki ye rafaqat jo rafaqat bhi nahi
umra bhar ke liye aazar hui jati hai

zindgi yun to hamesha se pareshan si thi
ab to har saans giranbaar hui jati hai

pyar par bas to nahi hai mera, lekin fir bhi
tu bata de ki tujhe pyar karu ya n karu

tune khud apne tabssum se jagaya hai jinhe
un tamnnao ka iajhar karu ya n karu - Sahir Ludhiyanvi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top