1
ज़िन्दगी जब तलक तमाम न हो
रास्ते में कहीं क़याम न हो

घर में रिश्ते बिखर चुके लेकिन
दुश्मनों में ख़बर ये आम न हो

कुछ ताअल्लुक़ नहीं, नहीं न सही
ख़त्म लेकिन दुअा सलाम न हो

हंसते हंसते चलो जुदा हो जाएं
आंसुओं पर सफ़र तमाम न हो- राज़िक़ अंसारी

Roman

Zindgi jab talak tamam n ho
raste me kahi kyam n ho

ghar me rishte bikhar chuke lekin
dushmano me khabar ye aam n ho

kuch taalluk nahi, nahi n sahi
khatm lekin dua salam n ho

haste haste chalo juda ho jaye
aansuo par safar tamam n ho - Razique Ansari
#jakhira

Post a Comment

  1. कुछ ताअल्लुक़ नहीं, नहीं न सही
    ख़त्म लेकिन दुअा सलाम न हो।

    आपको पढ़कर आनंद आ गया। जी ही नही भरता। आपकी क़लम बुलंदियों को छुये। सलाम आपको

    ReplyDelete

 
Top