0
जब मेरे घर के पास कही भी नगर न था
तो इस तरह राह में लूटने का डर न था

जंगल में जंगलो की तरह का सफर न था
सूरत में आदमी की कोई जानवर न था

आंसू-सा गिर के आँख-से मै सोचता रहा
इतना तो अपने आप से मै बेखबर न था

इस बार खुद को गौर से देखा तो ये
मिला
मै सिर्फ एक धड था, मेरे धड पे सर न था

होठो पे आई और 'कुंवर' कापती रही
एक बात जिसका दिल पे कोई भी असर न था - कुंवर बैचैन

Roman

jab mere ghar ke paas kahi bhi nagar n tha
to is tarah raah me lutne ka dar n tha

jangal me janglo ki tarah ka safar n tha
surat me aadmi ki koi janwar n tha

aansu-sa gir ke aankh se mai sochta raha
itna to apne aap se mai bekhabar n tha

is baar khud ko gour se dekha to ye mila
mai sirf ek dhad tha, mere dhad pe sar n tha

hotho pe aai aur 'Kunwar' kaapti rahi
ek baat jiska dil pe koi bhi asar n tha - Kunwar Baichain
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top