0
कठिन है राह गुज़र, थोडी देर साथ चलो
बहुत कडा है सफर, थोडी देर साथ चलो

तमाम उम्र कहां कोइ साथ देता है
ये जानता हुं मगर, थोडी देर साथ चलो

नशे में चूर हुं में, तुम्हें भी होश नहीं
बडा मज़ा हो अगर, थोडी देर साथ चलो

ये एक शब की मुलाकात भी गनीमत है
किसे है कल की खबर, थोडी देर साथ चलो

अभी तो जाग रहें है चिराग राहों के
अभी है दूर सहर, थोडी देर साथ चलो

तवाफ मंज़िले जानां हमें भी करना है
'फराज़' तुम भी अगर,थोडी देर साथ चलो – अहमद फ़राज़

Roman

Kathin hai raah gujar, thodi der sath chalo
bahut kada hai safar, thodi der sath chalo

tamam umra kaha koi sath deta hai
ye janta hu magar, thodi der sath chalo

nashe me choor hu mai, tumhe bhi hosh nahi
bada maza ho agar, thodi der sath chalo

ye ek shab ki mulakat bhi ganimat hai
kise hai kal ki khabar, thodi der sath chalo

abhi to jag rahe hai chirag raho ke
abhi hai door sahar, thodi der sath chalo

tawaf manzile jana hame bhi karna hai
"Faraz" tum bhi agar, thodi der sath chalo - Ahamad Faraz

Post a Comment Blogger

 
Top