0
दिल है आईना-ए-हैरत -आबिद हुसैन आबिद
दिल है आईना-ए-हैरत -आबिद हुसैन आबिद

दिल है आईना-ए-हैरत से दो-चार आज की रात ग़म-ए-दौराँ में है अक्स-ए-ग़म-ए-यार आज की रात आतिश-ए-गुल को दामन से हवा देती है दीदनी है रविश-ए-मौ...

Read more »

1
उसको कितना गुमान है यारो - डॉ. रौनक रशीद खान
उसको कितना गुमान है यारो - डॉ. रौनक रशीद खान

उसको कितना गुमान है यारो जैसे वो आसमान है यारो मेरी खामोशियो पे तंज न कर मेरे मुंह में भी जबान है यारो बात बिगड़ी हुई बनाता है रब बड़ा...

Read more »
 
 
Top