0
तेरी तरफ से हमला होगा -  हसीब सोज़
तेरी तरफ से हमला होगा - हसीब सोज़

तेरी तरफ से हमला होगा ऐसा हमने कब सोचा था शर्बत इतना कड़वा होगा ऐसा हमने कब सोचा था आप तो पिछले कई...

Read more »

0
बात-बात में- परवेज वारिस
बात-बात में- परवेज वारिस

उसने बिगड के मुझसे कहा बात-बात में रोते नहीं यु अहले वफ़ा बात बात में कुछ बात थी जो उसकी जुबां कह न सकी कुछ सोच-सोच कर वो रुका बात-बात मे...

Read more »

0
अच्छी तरह ज़रा मुझे पहचान ज़िंदगी- हफीज़ मेरठी
अच्छी तरह ज़रा मुझे पहचान ज़िंदगी- हफीज़ मेरठी

अच्छी तरह ज़रा मुझे पहचान ज़िंदगी इंसान हूँ मैं हज़रते -इन्सान ज़िंदगी पहने हुए है रेशमो -कमख़्वाब का ...

Read more »

0
शायद किसी काबिल ये मिरा सर भी नहीं है- कैफ भोपाली
शायद किसी काबिल ये मिरा सर भी नहीं है- कैफ भोपाली

कैफ भोपाली साहब का 20 फ़रवरी को जन्म दिवस आता है इस अवसर पर उनकी एक ग़ज़ल पेश है शायद किसी काबिल ये मि...

Read more »

0
मेरे ही लहू पर गुजर औकात करो हो - कलीम आजिज़
मेरे ही लहू पर गुजर औकात करो हो - कलीम आजिज़

कलीम आजिज़ साहब का रविवार (15/02/2015) को हजारीबाग में इंतकाल हो गया खुदा उन्हें जन्नत नसीब करे | आपक...

Read more »

0
परिंदे हौसला कायम उड़ान में रखना- मंगल नसीम
परिंदे हौसला कायम उड़ान में रखना- मंगल नसीम

परिंदे हौसला कायम उड़ान में रखना हर इक निगाह तुझी पर है ध्यान में रखना बुलंदियां तेरी हिम्मत को आजमाएगी परों में जान, नज़र आसमान में रखना...

Read more »

0
हमजिंस अगर मिले न कोई आसमान पर - शकेब जलाली
हमजिंस अगर मिले न कोई आसमान पर - शकेब जलाली

हमजिंस अगर मिले न कोई आसमान पर बेहतर है खाक डालिए ऐसी उड़ान पर आ कर गिरा था कोई परिंदा लहू में तर ...

Read more »

0
वो खत के पुर्जे उड़ा रहा था -  गुलज़ार
वो खत के पुर्जे उड़ा रहा था - गुलज़ार

जगजीत सिंह जी के जन्मदिन (8 फ़रवरी ) के अवसर पर उनकी आवाज़ में एक ग़ज़ल पेश है वो खत के पुर्जे उड़ा ...

Read more »

0
कौन कहता है तुझे मैंने भुला रखा है - जाँ निसार अख्तर
कौन कहता है तुझे मैंने भुला रखा है - जाँ निसार अख्तर

जाँ निसार अख्तर साहब का जन्मदिवस ८ फ़रवरी को है इस उपलक्ष्य में उनकी एक ग़ज़ल पेश है कौन कहता है तुझे ...

Read more »

0
आज फिर उनका सामना होगा-  सबा सिकरी
आज फिर उनका सामना होगा- सबा सिकरी

आज फिर उनका सामना होगा क्या पता उसके बाद क्या होगा आसमान रो रहा है दो दिन से आपने कुछ कहा-सुना होगा दो कदम पर सही तेरा कूचा ये भी सदि...

Read more »

0
इंटरव्यू से घबराता हू- इब्ने इंशा
इंटरव्यू से घबराता हू- इब्ने इंशा

इब्ने इंशा के एक पुराने इंटरव्यू के कुछ हिस्से .... इंटरव्यू से घबराता हू, सवाल छोटे होने चाहिए, नह...

Read more »
 
 
Top