0
किससे बिछड़ी कौन मिला था भूल गई
कौन बुरा था कौन था अच्छा भूल गई

कितनी बातें झूठी थीं और कितनी सच
जितने भी लफ़्जों को परखा भूल गई

चारों ओर थे धुंधले-धुंधले चेहरे-से
ख़्वाब की सूरत जो भी देखा भूल गई

सुनती रही मैं सबके दुःख ख़ामोशी से
किसका दुःख था मेरे जैसा भूल गई

भूल गई हूं किससे मेरा नाता था
और ये नाता कैसे टूटा भूल गई - फ़ातिमा हसन

Roman

kisse bichdi koun mila tha bhul gayi
koun bura tha koun tha achcha bhul gayi

kitni baate jhuthi thi aur kitni sach
jitne bhi lafzo ko parkha bhul gayi

charo aur the dhundhle-dhundhle chehre se
khwab ki surat jo bhi dekha bhul gayi

sunti rahi mai sabke dukh khamoshi se
kiska dukh tha mere jaisa bhul gayi

bhul gayi hu kisse mera nata tha
aur ye nata kaise tuta bhul gayi - Fatima Hasan
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top