1
उसको कितना गुमान है यारो
जैसे वो आसमान है यारो

मेरी खामोशियो पे तंज न कर
मेरे मुंह में भी जबान है यारो

बात बिगड़ी हुई बनाता है
रब बड़ा मेहरबान है यारो

वह मेरा दोस्त है या दुश्मन है
क्यों रखे मेरा ध्यान है यारो

आईने टूटकर भी कहते है
हम में तो अब भी जान है यारो

उस अमीरे शहर की दावत में
मुफलिसी इम्तेहान है यारो

मीर की शायरी का क्या कहना
लफ्ज़ अब तक जवान है यारो

दोस्ती दोस्तों के बाइस है
तीर है तो कमान है यारो

चाहे छोटा ही सही है लेकिन
मेरा अपना मकान है यारो

उसके चेहरे से उड़ गई रौनक
जब से वो परेशान है यारो- डॉ. रौनक रशीद खान

Roman

usko kitna gumaan hai yaaro
jaise wo aasmaan hai yaaro

meri khamoshiyo pe tanj n kar
mere munh me bhi jabaan hai yaaro

baat bigdi hui banata hai
rab bada mehrbaan hai yaaro

wah mera dost hai ya dushamn hai
kyo rakhe mera dhyan hai yaaro

aaine tutkar bhi kahte hai
ham me to ab bhi jaan hai yaaro

us ameere shahar ki daawat me
muflisi imtihaan hai yaaro

Meer ki shayari ka kya kahna
lafz ab tak jawaan hai yaaro

dosti dosto ke bais hai
teer hai to kamaan hai yaaro

chahe chhota hi sahi hai lekin
mera apna makaan hai yaaro

uske chehre se ud gayi rounak
jab se wo pareshan hai yaaro - Dr. Rounak Rasheed Khan
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top