0
दिल है आईना-ए-हैरत से दो-चार आज की रात
ग़म-ए-दौराँ में है अक्स-ए-ग़म-ए-यार आज की रात

आतिश-ए-गुल को दामन से हवा देती है
दीदनी है रविश-ए-मौज-ए-बहार आज की रात

आज की रात का महमाँ है मल्बूस-ए-हरीर
इस चमन-ज़ार में उगते हैं शरर आज की रात

मैंने फ़रहाद के आग़ोश में ह्सीरीं देखी
मैंने परवेज़ को देखा सर-ए-दार आज की रात

जो चमन सर्फ़-ए-ख़िज़ाँ हैं वो बुलाते हैं मुझे
मुझे फ़ुर्सत नहीं ऐ जान-ए-बहार आज की रात

दर-ए-यज़दाँ पे भी झुकती नहीं इस वक़्त जबीं
मुझ से आँखें न लड़ा ??? आज की रात

मशाल-ए-शेर का लाया हूँ चढ़ावा "आबिद"
जगमगातें हैं शहीदों के मज़ार आज की रात - आबिद हुसैन "आबिद"

Roman

dil hai aaina-e-hairat se do-char aaj ki raat
gam-e-douran me aks-e-gham-e-yaar aaj ki raat

aatish-e-gul ko daman se hawa deti hai
didni hai ravish-e-mouj-e-bahaar aaj ki raat

aaj ki raat ka mahmaan hai malbus-e-harir
is chaman-zaar me ugte hai sharar aaj ki raat

maine farhad ke aagosh me hasiri dekhi
maine parvej ko dekha sar-e-daar aaj ki raat

jo chaman sarf-e-khizan hai wo bulate hai mujhe
mujhe fursat nahi e jaan-e-bahaar aaj ki raat

dar-e-yajdo pe bhi jhukti nahi is waqt zabi
mujh se aankhe n lada??? aaj ki raat

mashal-e-sher ka laya hu chadhawa aabid
jagmagate hai shahido ke mazar aaj ki raat - Aabid Husain Aabid
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top