0
शहरे वफ़ा का आज ये कैसा रिवाज है
मतलब परस्त अपनों का खालिस मिजाज़ है

फुटपाथ से गरीबी ये कहती है चीख कर
क्यू भूख और प्यास का मुझ पर ही राज है

जलती रहेगी बेटियां यु ही दहेज पर
कानून में सबुत का जब तक रिवाज है

शायद इसी का नाम तरक्की है दोस्तों
नंगी सड़क पे हर बहु बेटी की लाज है

क्या जाने क्या हो देश का अंजाम देखिये
इंसानियत के खून से महंगा अनाज है

जब से गुलाम पैरों की टूटी है बेडियाँ
सर पर हर एक शख्स के काटो का ताज है

उन रहबरों का हाल न "शेरी" से पूछिए
खालिस लुटेरो जैसा ही जिनका मिजाज़ है - चाँद शेरी

Roman

shahre wafa ka aaj ye kaisa riwaj hai
matlab [arst apno ka khalis mizaj hai

futpath se garibi ye kahti hai chikh kar
kyu bhukh aur pyas ka mujh par hi raaj hai

jalti rahegi betiya yu hi dahej par
kanun me saboot ka jab tak riwaz hai

shayad isi ka naam tarqqi hai dosto
nangi sadak pe har bahu beti ki laaj hai

kya jaane kya ho desh ka anjam dekhiye
insaniyat ke khun se mahnga anaj hai

jab se gulam pairo ki tuti hai bediya
sar par har ek shakhs ke kanto ka taaj hai

un rahbaro ka haal n "sheri" se puchiye
khalis lutero jaisa hi jinka mizaj hai - Chaand Sheri
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top