0
इक याद की मौजूदगी सह भी नहीं सकते
ये बात किसी और से कह भी नहीं सकते

तू अपने गहन में है तो मैं अपने गहन में
दो चांद हैं इक अब्र में रह भी नहीं सकते

हम जिस्म हैं और दोनों की बुनियादें अमर हैं
अब कैसे बिछड़ जाएं कि ढह भी नहीं सकते

दरिया हूँ किसी रोज़ मुआविन की तरह मिल
ये क्या कि हम इक लहर में बह भी नहीं सकते

जवाब आएं कहाँ से अगर आँखें हों पुरानी
और सुब्ह तक इस ख़ौफ़ में रह भी नहीं सकते- साक़ी फारुकी

Roman

ik yaad ki moujudagi sah bhi nahi sakte
ye baat kisi aur se kah bhi nahi sakte

tu apne gahan me hai to mai apne gahan me
do chand hai ek abr me rah bhi nahi sakte

ham jism hai aur dono ki buniyade amar hai
ab kaise bichchd jaye ki dhah bhi nahi sakte

dariya hu kisi roz muaavin ki tarah mil
ye kya ki ham ek lahar me bah bhi nahi sakte

jawab aaye kaha se agar aankhe ho purani
aur subah tak is khouf me rah bhi nahi sakte - Saqi farooqi/faruqi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top