0
गुम जो यादों की डायरी हो जाए
ख़ाली ख़ाली ये ज़िंदगी हो जाए

आ चुका वक़्त गर जुदाई का
काम ये भी हंसी ख़ुशी हो जाए

आँसुओं के दिये जलाते चलो
कुछ तो रस्ते में रौशनी हो जाए

ऐसी दीवानगी से क्या मतलब
बात हम से जो होश की हो जाए

कतरा कतरा हयात क्या जीना
जो भी होना है वो अभी हो जाए

करते चलिए हिसाब ज़ख्मों का
कब कहाँ ख़त्म ज़िन्दगी हो जाए - राज़िक़ अंसारी
मायने
हयात = जिंदगी

Roman

Gum jo yaado ki dairy ho jaye
khali khali ye zindgi ho jaye

aa chuka waqt gar judai ka
kaam ye bhi hasi khushi ho jaye

aansuo ke diye jalate chalo
kuch to raste me roshni ho jaye

aisi diwangi se kya matlab
baat ham se jo hosh ki ho jaye

katra katra hayat kya jeena
jo bhi hona hai wo abhi ho jaye

karte chaliye hisab jakhmo ka
kab kaha khatm zindgi ho jaye - Razique Ansari
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top