4
आज मीना कुमारी के जन्म दिवस के अवसर पर पेश है उनकी यह आज़ाद नज्म
दुआओं की रात

दुआओं की यह रात
आज की रात
'बहुत रातो के बाद आई है'
ऐसी सफ़ेदपोश रात
ऐसी सियाह बख्त रात
कही-कही मिलती है
किसी-किसी सजीले दिल के नसीब में होती है

यह मौत की रात
यह पैदाइश की रात - मीना कुमारी नाज़

मायने
सफेदपोश रात=उजले परिधान की रात, सियाह बख्त रात = दुर्भाग्य की रात

Roman

Duaon ki Raat

Duaao ki yah raat
aaj ki raat
'bahut raato ke baa aai hai'
aisi safedposh raat
aisi siyah bakht raat
kahi-kahi milti hai
kisi-kisi sajile din ke naseeb me hoti hai

yah mout ki raat
yah paidaish ki raat - Meena Kumari Naaz
#jakhira

Post a Comment Blogger

  1. MEENA KII EK AUR GHAZAL,,,{{TUKRE 2 DIN BEETA,,DHHAJJII 2 RAAT MILEE,,JIS KA JINTA ANCHAL THA,,UTNII HI SOGAAT MILY,..}}} NEEDS EDIT.

    ReplyDelete
    Replies
    1. what editing required on tukde tukde din beeta please mention it. we have changed धाते to घाते .

      Delete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, एक के बदले दो - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार हमारी पोस्ट शामिल करने हेतु ।

      Delete

 
Top