0
चाँद शेरी साहब के जन्मदिन के अवसर पर उनकी यह ग़ज़ल पेश है :-

मेरा वो आशना था बहुत
मुझसे लेकिन खफ़ा था बहुत

ज़र्द पत्ते हरे हो गए
बादलों में नशा था बहुत

मेरी नींदे चुरा ले गया
देखने में भला था बहुत

फडफडाता है अब कैद में
जो परिंदा उड़ा था बहुत

तिनका-तिनका नशेमन हुआ
आंधियों से लड़ा था बहुत

खूने-दिल से जो उन्वा लिखा
सुर्खियों में छपा था बहुत

दिल के कागज पे शेरी तेरे
हाशिया रह गया था बहुत - चाँद शेरी

Roman

mera wo aashana tha bahut
mujhse lekin khafa tha bahut

zard patte hare ho gaye
badlo me nasha tha bahut

meri ninde chura le gaya
dekhne me bhala tha bahut

fadfadata hai ab kais me
jo parinda uda tha bahut

tinka-tinka nasheman hua
aandhiyo se lada tha bahut

khune-dil se jo unwa likha
surkhiyo me chhapa tha bahut

dil ke kagaj pe sheri tere
haashiya raha gaya tha bahut - Chaand Sheri
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top