0
गरीबे शहर का सर है के शहरयार का है
ये हमसे पूछ के गम कौन सी कतार का है

किसी की जान का, न मसला शिकार का है
यहाँ मुकाबला पैदल से शहसवार का है

ऐ आबो-ताबे-सितम, मश्क क्यू नहीं करता
हमें तो शौक भी सेहरा-ए-बेहिसार का है

यहाँ का मसला मिटटी की आबरू का नहीं
यहाँ सवाल जमीनों पे इख्तियार का है

वो जिसके दर से कभी जिंदगी नहीं देखी
ये आधा चाँद उसी शहरे-यादगार का है

ये ऐसा ताज है जो सर पे खुद पहुचता है
इसे जमीन पे रख दो ये खाकसार का है - अहमद कमाल 'परवाजी'

मायने
शहरयार=बादशाह, मसला=समस्या, ऐ-आबो-ताबे-सितम=जुल्म करने वाला, मश्क=अभ्यास, सेहरा-ए-बेहिसर=जिसकी कोई हद नहीं, आबरू=मान, इख्तियार/अख्तियार=अधिकार

Roman

garibe shahar ka sar hai ke shaharyaar ka hai
ye hamse puch ke gam koun si kataar ka hai

kisi ki jaan ka, n masla shikar ka hai
yaha mukabala paidal se shahsawar ka hai

ae aabo-tabe-sitam, mashq kyu nahi karta
hame to shouk bhi sehra-e-behisar ka hai

yaha ka masala mitti ki aabru ka nahi
yaha sawal jamino pe ikhtiyar ka hai

wo jiske dar se kabhi jindgi nahi dekhi
ye aadha chand usi shahre yaadgar ka hai

ye aisa taaj hai jo sar pe khud pahuchta hai
ise jamin pe rakh do ye khaksar ka hai - Ahmad Kamaal Parwaji/Parwazi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top