0
एक जुग बाद शबे-गम की सहर देखी है
देखने की न उम्मीद थी मगर देखी है

जिसमे मजहब के हर एक रोग का लिखा है इलाज
वो किताब हमने किसी रिंद के घर देखी है

ख़ुदकुशी करती है आपस की सियासत कैसे
हमने ये फिल्म नयी खूब इधर देखी है

दोस्तों! नाव को अब खूब संभाले रखियो
हमने नजदीक ही इक ख़ास भंवर देखी है

उसको क्या खाक शराबो में मजा आएगा
जिसने इक बार भी वो शोख नज़र देखी है - गोपाल दास नीरज

Roman

ek jug baad shabe-gam ki sahar dekhi hai
dekhne ki n ummid thi magar dekhi hai

jisme majhab ke har ek rog ka likha tha ilaj
wo kitab hamne kisi rind ke ghar dekhi hai

khudkushi karti hai aapas ki siyasat kaise
hamne ye film nayi khub idhar dekhi hai

dosto! naav ko ab khub sambhale rakhiyo
hamne najdik hi ik khas bhanvar dekhi hai

usko kya khak sharabo me maja aayega
jisne ek baar bhi wo shokh najar dekhi hai - Gopal Das Neeraj
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top