0

बुजुर्गो कि बाते बेमानी नहीं है
समझना उन्हें बस आसानी नहीं है

मोहब्बत में बेताबियो का है आलम
कभी रातभर नींद आनी नहीं है

मेरे हौसलों को डुबोकर दिखाए
समंदर में इतना पानी नहीं है

हवाओ के रुख भी पलट देंगे हम तो
अभी काम करने कि ठानी नहीं है

तुम बेकार ही उसके मुह लग रहे हो
वो बन्दा कोई खानदानी नहीं है

देखे है हमने हसी से हसी पर
मगर उसका अब तक तो सानी नहीं है

उसे ढूंढने कोई जाए भी कैसे?
कि जिसकी कोई भी निशानी नहीं है

जो बरसो से ही कर रहे हुक्मरानी
वो समझे है ये दुनिया फानी नहीं है

जमाना तेरी कद्र करता है लेकिन
उसे ही निरी कद्र आनी नहीं है

पढ़ा है सुना है ये दिल कह रहा है
कोई मीरा जैसी दिवानी नहीं है

बदल जाए गर वक्त के साथ रिश्ते
उन रिश्तों के फिर कोई मानी नहीं है

तेरी साफगोई है पहचान रौनक
तभी महफिलो की तू रानी नहीं है - रौनक रशीद खान

Roman

bujurgo ki baate bemani nahi hai
samjhana unhe bas aasani nahi hai

mohbbat me betabiyo ka hai aalam
kabhi ratbhar nind aani nahi hai

mere houslo ko dubokar dikhaye
samandar me itna paani nahi hai

hawao ke rukh bhi palat denge ham to
abhi kaam karne ki thani nahi hai

tum bekar hi uske muh lag rahe ho
wo banda koi khandani nahi hai

dekhe hai hamne hasi se hasi par
magar uska ab tak to sani nahi hai

use dhundhne koi jaye bhi kaise?
ki jiski koi bhi nishani nahi hai

jo barso se hi kar rahe hukmrani
wo samjhe hai ye duniya fani nahi hai

jamana teri kadra karta hai lekin
use hi niri kadr aani nahi hai

padha hai suna hai ye dil kah raha hai
koi meera jaisi deewani nahi hai

badal jaye gar waqt ke sath rishte
un rishto ke fir koi mani nahi hai

teri safgoi hai pahchan rounak
tabhi mahfilo ki tu rani nahi hai - Rounak Rashid Khan
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top