0
Gurpreet Kafir
इंसानियत का कत्ल सरेआम हो रहा है,
अभी चुप रहो तुम, आवाम सो रहा है ।

हो धरम या सियासत बस एक ही कहानी
हाथों में छुरी ले के राम राम हो रहा है ।

हर बात अदाकारी क्या खूब राजनीती
कानून बनाने का, शायद काम हो रहा है ।

घर से तो चाहे निकलो, पर उस तरफ न जाना
भगवान सो रहे हैं, आराम हो रहा है ।

हमने न कभी देखा हमने न कभी जाना
सुनते हैं हर गली में अपना नाम हो रहा है

बारूद की महक चारों तरफ है फैली
"काफ़िर" को उडाने का ताम झाम हो रहा है । -गुरप्रीत काफिऱ

Roman

insaniyat ka katl sareaam ho raha hai
abhi chup raho tum, awam so raha hai

ho dharam ya siyasat bas ek hi kahani
hatho me churi le ke ram ram ho rha hai

har baat adakari kya khoob rajniti
kanoon banane ka, shayad kam ho raha hai

ghar se to chahe niklo, par us taraf n jana
bhagwan so rahe hai, aaram ho rha hai

hamne n kabhi dekha hamne n kabhi jana
sunte hai har gali me apna naam ho rha hai

barud ki mahak charo taraf hai faili
kafir ko udane ka tam jham ho raha hai -Gurpreet Kafir
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top