0
है गलत गर गुमान में कुछ है
तुझ सिवा भी जहान में कुछ है

दिल भी तेरे ही ढंग सिखा है
आन में कुछ है आन में कुछ है

बेखबर तेंगे-यार कहती है
बाकी नीमजान में कुछ है

इन दिनों कुछ अजब है मेरा हाल
देखता कुछ हू और ध्यान में कुछ है

और भी चाहिए सो कहिये अगर
दिले-नामेहरबाँ में कुछ है

दर्द तो जो करे है जी का जियाँ
फायदा इस जियान में कुछ है -ख्वाजा मीर दर्द

मायने
तेंगे-यार= प्रियतम कि तलवार, नीमजान=आधी जान, जियाँ=नुकसान

Roman

hai galat gar guman me kuch hai
tujh siwa bhi jahan me kuch hai

dil bhi tere hi dhang sikha hai
aan me kuch hai aan me kuch hai

bekhabar tenge-yaar kahti hai
baaki is neemjaan me kuch hai

in dino kuch ajab hai mera haal
dekhta kuch hu aur dhyan me kuch hai

aur bhi chahiye so kahiye agar
dile-namehrban me kuch hai

dard to jo kare hai ji ka jiyaa
fayda is jiyan me kuch hai - Khwaja Meer Dard
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top