0
बेचैन बहुत फिरना घबराये हुए रहना
इक आग सी जज़बों की बहकाये हुए रहना

छलकाये हुए चलना ख़ुश्बू लब-ए-लाली की
इक बाग़ सा साथ अपने महकाये हुए रहना

उस हुस्न का शेवा है जब इश्क़ नज़र आये
पर्दे में चले जाना शर्माये हुए रहना

इक शाम सी कर रखना काजल के करिश्मे से
इक चाँद सा आँखों में चमकाये हुए रहना

आदत ही बना ली है तुम ने तो ‘मुनीर’ अपनी
जिस शहर में भी रहना उकताये हुए रहना - मुनीर नियाजी

Roman

baichen bahut firna ghabraye hue rahna
ik aag si jazbo ki bahkaye hue rahna

chalkaye hue chalna khushbu lab-e-lali ki
ik baag sa sath apne mahkaye hue rahna

us husn ka shewa hai jab ishq nazar aaye
parde me chale jana sharmaye hue rahana

ik shaam si kar rakhna kajal ke karishme se
ik chand sa aankho me chamkaye hue rahna

aadat hi bana li hai tum ne to 'Munir' apni
jis shahar me bhi rahna uktaye hue raha- Munir Niyazi
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top