0
हर बार हुआ है जो, वही तो नहीं होगा
डर जिसका सताता है, अभी तो नहीं होगा

दुनिया को चलो परखे, नए दोस्त बनाये
हर शख्स ज़माने में, वही तो नहीं होगा

वो शख्स बड़ा है तो गलत हो नहीं सकता
दुनिया को भरोसा ये, अभी तो नहीं होगा

है उसका इशारा भी समझने की जरुरत
होगा तो कभी होगा, अभी तो नहीं होगा

दो चार गड़े मुर्दे उखाड़ेंगे किसी रोज
हर बार नया झगडा, तभी तो नहीं होगा

कुछ और भी हो सकता है तक़रीर का मतलब
जो तुमने सुना सिर्फ, वहो तो नहीं होगा

हर बार ज़माने का सितम होगा मुझी पर
हाँ; मै ही बदल जाऊ कभी, तो नहीं होगा - अलोक श्रीवास्तव

Roman

har baar hua hai jo, wahi to nahi hoga
dar jiska satata hai, abhi to nahi hoga

duniya ko chale parkhe, naye dost banaye
har shakhs jamane me, wahi to nahi hoga

wo shakhs bada hai to galat ho nahi sakta
duniya ko bharosa ye, abhi to nahi hoga

hai uska ishara bhi samjhane ki jarurat
hoga to kabhi hoga, abhi to nahi hoga

do char gade murde ukhadenge kisi roj
har baar naya jhagda, tabhi to nahi hoga

kuch aur bhi ho sakta hai takreer ka matlab
jo tumne suna sirf, waho to nahi hoga

har baar jamane ka sitam hoga mujhi par
haa; mai hi badal jau kabhi, to nahi hoga - Aalok Shrivastav
#jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top